जेएनयू : विवाद या सच (JNU Protests) - The Red Carpet

Breaking

The Red Carpet

“Your Opinion Matters”

test banner

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, June 16, 2021

जेएनयू : विवाद या सच (JNU Protests)


 



           जब किसी राष्ट्र की बहुसंख्यक जनता किसी मत को लेकर एक मंतव्य गढ़ लेती है तब उस राष्ट्र में किसी चर्चा को गर्त में से निकालकर बाहर लाना अत्यंत ही कठिन हो जाता है  JNU के साथ फ़िलहाल इसी तरह की घटनायें घटित हो रही हैं  राष्ट्र के कई लोगों ने यह मंतव्य स्थापित कर लिया है कि JNU में होने वाली सभी घटनायें राष्ट्र विरोधी एवं नुक़सानदायक ही होती हैंतब ऐसे मंतव्यों के बीच अपनी बात रख पाना और उस पर बिना घबराये अडिग रहना, JNU से सीखा जा सकता है। अब JNU के बारे में लोगों ने यह मंतव्य अपने-आप बनाया है या सत्ताधारियों के किसी प्रपंच का परिणाम हैयह एक बहस का विषय हो सकता है। अक्सर विवादों में रहनेवाली या यूँ कहूँ कि सच और झूठ के बीच का फ़ासला दिखाने में लगी रहने वाली JNU अपने-आप में एक मिसाल है कि जब राष्ट्र की जनता को झूठ और फ़रेब में उलझाकर एक पंक्ति में खड़ा कर दिया गया हो तब भी स्वयं के मनोबल एवं अडिग रहने के तप से उम्मीद की किरण जलायी रखी जा सकती है 
           अलग-अलग न्यूज़ चैनलों की मानें तो किसी के लिए ₹ 300/मासिक होस्टल फ़ीस बहुत ज़्यादा नहीं है एवं किसी के लिए फ़ीस बढ़ना उन सभी विध्यार्थियों पर अतिरिक्त बोझ बढ़ाना है जिनकी औसत मासिक पारिवारिक आय ₹ 12000 से कम है  बात यहाँ से भी आगे यह है कि फ़ीस वृद्धि के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन मात्र JNU में ही हैं या देश के अन्य विश्वविद्यालयों में भी यह कारनामा किया गया है NDTV न्यूज़ चैनल की मानें तो BHU IIT में भी फ़ीस ₹50,000 से बढ़ाकर ₹2,00,000 कर दी गई एवं उत्तराखंड के एक मेडिकल कॉलेज में भी फ़ीस में वृद्धि की गयी और वहाँ भी विरोध प्रदर्शनों के लगभग 40 दिनों लम्बे मंजर देखे गए 
           बड़ी दुःखद बात है कि एक लोकतांत्रिक समाजवादी राष्ट्र में शिक्षा के क्षेत्र में जब ज़्यादा से ज़्यादा योगदान सरकारी क्षेत्र से होना चाहिए तब ऐसे फ़ीस बढ़ाकर गरीब जनता को पहले से ही शिक्षा की पंक्ति से अलग कर दिए जाने का षड्यन्त्र रचा जा रहा है  जो प्रत्यक्ष करदाता शिक्षा पर होने वाले खर्च को बर्बादी बता रहे हैंवो इस बात को नज़रंदाज़ कर रहे हैं कि सत्ताधारी पार्टी को मिले लगभग ₹700 करोड़ के चंदे में जिन कम्पनियों का दान अधिक हैउनसे मिलने वाले करों और उन्हें प्रदत्त की जाने वाली संविदाओं में कितना सम्बंध हैं बात तो ये भी सही है कि जो व्यक्ति प्रत्यक्ष कर देने में सक्षम हैंउसके लिए ₹300/मासिक कोई बड़ा मसला नहीं हैं और जब उन्हें यह अहसास होता है कि उनके द्वारा दिया जाने वाला कर गरीब विध्यार्थियों की शिक्षा पर खर्च हो रहा है तब यह उन्हें बर्बादी नज़र आती है क्योंकि वे स्वयं तो गरीब हैं ही नहीं 
           जब देश के अन्य विश्वविध्यालयों में भी विरोध प्रदर्शनों की एक शृंखला क़ायम हैं तब JNU को ही क्यों इतना प्रकाश में लाया जा रहा हैक्या ऐसा जनता के उसी मंतव्य को और मज़बूत करने के लिए किया जा रहा हैजिसमें उन्होंने JNU को विरोध की प्रतिमूर्ति समझ लिया है और यदि ऐसा है भी तो भी हमें JNU के प्रदर्शनकारी छात्र - छात्राओं का धन्यवाद करना चाहिए कि उन्होंने स्वयं को विरोध करनेके सक्षम बनाया क्योंकि जहाँ विरोध होता हैवहीं पर सच सामने निकलकर आता है  चाहे वह सच जिसके ख़िलाफ़ विरोध किया जारहा हैउससे सम्बंधित हों या जो विरोध कर रहे हैंउनसे सम्बंधित जिस जगह पर प्रत्येक कृत्य में मौन सहमति होंवहाँ सत्य और झूठ सब एक समान हो जाता है और यह ग़ुलामी का एक नमूना हो जाता हैंजहाँ जो मालिक ने कह दिया वही सत्य है और उसका विरोध नहीं किया जा सकता  JNU ने अपने कृत्यों से कम से कम यह तो साबित कर दिया है कि वे ग़ुलाम बनकर नहीं रह सकतेचाहे उन्हें अपने अधिकारों के लिए हर बार सड़कों पर ही क्यों  आना पड़े।
           खबरों के अनुसार विरोध प्रदर्शन कर रहे शिक्षार्थियों ने JNU परिसर में लगी स्वामी विवेकानंद कि मूर्ति के आस-पास अभद्र भाषा मेंशब्दों को लिखा। यदि यह घटना सही है और विरोध प्रदर्शनकारियों के द्वारा ही इसे अंजाम दिया गया है तब इसे किसी भी प्रकार से समर्थन नहीं दिया जा सकता  मैं ऐसा इसलिए नहीं कह रहा हूँ कि मेरी स्वामी विवेकानंद में कोई आस्था है बल्कि इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि जब शिक्षा के स्वरूप को बिगड़ने से बचाने के लिए ही हमने आंदोलन की शुरुआत की है तब हम स्वयं ही शिक्षा के विकृत स्वरूपको कैसे प्रदर्शित कर सकते हैं और फिर हमें महात्मा गांधी के ‘साधन-साध्य की पवित्रता’ के सिद्धांत को भी नहीं भूलना चाहिए हालाँकि मैं समझ सकता हूँ कि इस विचार पर वामपंथी एवं दक्षिणपंथी समुदायों के मत भिन्न-भिन्न हो सकते हैं किन्तु फिर भी मैं यहविश्वास लेकर चल रहा हूँ कि JNU में हो रहे विरोध प्रदर्शनों में मात्र वामपंथी ही नहीं अपितु दक्षिणपंथी छात्र-छात्राएँ भी शामिल हुए होंगे क्योंकि इस बात को समझने में अधिक मानसिक कसरत की आवश्यकता नहीं है कि ग़रीबी वामपंथ या दक्षिणपंथ को देखकर प्रहार नहीं करती अपितु ग़रीबी स्वयं मनुष्यता पर ही एक प्रहार है 
           वर्तमान सरकार जिस प्रकार से प्रत्येक क्षेत्र में निजीकरण एवं मूल्य वृद्धि को थोप रही हैउसे इन प्रत्यक्ष कर दाताओं के लिए मंदिर की आड़ में तो छिपाया जा सकता है किन्तु इस देश का गरीब व्यक्ति इन प्रपंचों को अपनी थाली में रखी रोटी के आकार में रोज़ देखता है जो लोग JNU में होने वाले विरोध प्रदर्शनों को राष्ट्र्विरोधी बताने में लगे रहते हैंउन्हें यह बात समझने की आवश्यकता है कि शिक्षा का अर्थ मात्र मौन रहकर प्रत्येक वहनीय और अवहनीय आदेशों को मान लेना नहीं है अपितु शिक्षा हमें प्रबल बनाती हैउन ताक़तों के सामने खड़े होने के लिए जो अपने घमंड और नफ़रतों के मद में शिक्षा की प्रक्रियासामग्री एवं परिणामों को अपने नियंत्रण में करने का प्रयास करती हैं  शिक्षा हमें सक्षम बनाती है कि हम उन प्रत्येक प्रपंचों का सामना कर सकेंजो हमें हमारे अधिकारों से अलग करने और हमारे आगे बढ़ने की आधारशिलाओं को ही नष्ट करने के लिए रचे जाते हों  जिस समय हमें इस बात पर गर्व होना चाहिए कि इतने विरोध प्रदर्शनों और सरकार के निशाने पर रहने के बाद भी JNU NAAC की A++ की श्रेणी पर क़ाबिज़ है तब ज़ी न्यूज़ जैसे कुछ चैनल JNU को अनपढ़ और बार-बार फ़ेल होने वाले विध्यार्थियों का गढ़ साबित करने पर तुले हुए हैंजो कि दुःखद एवं हास्यास्पद है 
           हमें इस बात को समझना होगा कि राष्ट्र और सरकार में कई बुनियादी अंतर होते हैं  यह राष्ट्र स्वयं इसके लोगों से मिलकर बनता है जबकि सरकार इन्हीं लोगों के द्वारा अपने में से ही चुनी जाती है। हमें सरकार को ही राष्ट्र नहीं समझना चाहिए  सरकार की आलोचना को राष्ट्र की आलोचना नहीं समझना चाहिए  सरकार के ख़िलाफ़ विरोध को राष्ट्र के ख़िलाफ़ विरोध नहीं समझना चाहिए  JNU के ये शिक्षार्थी इसी देश के नागरिक हैंजो न्याय के लिए और अधिकारों पर होने वाले आक्रमणों के ख़िलाफ़ खड़े होने का साहस करते हैंजो कि इस देश का आम नागरिक सामान्य तौर पर नहीं कर पाता  आख़िर हम इस बात को लेकर इतने निश्चिंत कैसे हो सकते हैं कि सरकार जो कर रही हैकेवल वही सही है  यदि आज हम अपने ही देश के लोगों के लिए खड़े नहीं हुएउनकी आवाज़ के साथ आवाज़ मिलाकर गूँजे नहीं तो हमें इस बात को याद रखना होगा कि जब ताक़त के नशे में चूर घमण्डी सरकारें हमारे ऊपर आदेशों को थोपना शुरू करेंगी तब विद्रोह के मैदान में सिर्फ़ हम ही अकेले खड़े होंगेकोई हमारा साथ देने नहीं आयेगा।
           हमें अपनी ज़ुबानों को खोलना होगा  ये ड़र जो हमारे मन में बैठा दिया गया है कि सरकार के ख़िलाफ़ बोलने वाला राष्ट्रद्रोही होता हैहमें इस ड़र से बाहर निकलना होगा। हमें स्वयं से पूछना होगा कि क्या हम सिर्फ़ धर्म और सत्ता के चंगुल में उलझकर रह जाना चाहते हैं या हमारी बुनियादी ज़रूरतों पर होने वाले आक्रमणों के ख़िलाफ़ खड़े होकर अपनी अस्मिता और अधिकारों के लिए ज़ी-जान से लड़ना चाहते हैं  जब तक ये उत्साह और जोश हमारे पास नहीं होगा और जब तक इस ड़र को ख़त्म करने की ताक़त हमारे पास पैदा नहीं होगीतब तक हम हमारे अधिकारों के लिए आवाज़ें बुलंद नहीं कर सकते  इसी ड़र की वजह से हम इस बात का निर्णय नहीं कर पाते कि कौन हमारे अधिकारों के लिए लड़ रहा है और कौन हमारे अधिकारों को छिनने की कोशिश कर रहा है  जब हमारे मन से सरकार और उसकी समर्थक भीड़ का ड़र ख़त्म हो जाएगातभी हम सीधे खड़े हो पायेंगे और फ़िर मैं आपसे पूछूँगा
बोल के लब आज़ाद हैं तेरे 
बोल ज़ुबाँ अब भी तेरी है।

No comments:

Post a Comment

We would be happy to hear you :)

Post Top Ad

Responsive Ads Here