डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DEPOSITORY PARTICIPANT) (DP) - The Red Carpet

Breaking

The Red Carpet

“Your Opinion Matters”

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Saturday, September 4, 2021

डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DEPOSITORY PARTICIPANT) (DP)

 डिपॉजिटरी क्या है और यह डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट से कैसे अलग है (What is a depository and how it is different from depository participant)?


डिपॉजिटरी (depository) एक ऐसी जगह है, जहां वित्तीय प्रतिभूतियां (financial securities) डीमैटरियलाइज्ड (dematerialised) अथवा इलेक्ट्रॉनिक (Electronic) रूप में होती हैं। यह स्वामित्व रिकॉर्डों (ownership records) के रखरखाव और डीमैटरियलाइज्ड सिक्योरिटीज (dematerialised securities) में ट्रेडिंग (trading/ व्यापार) की सुविधा के लिए जिम्मेदार है। हालांकि, डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) डिपॉजिटरी का एक कानूनी एजेंट होता है । वे डिपॉजिटरी और निवेशकों के बीच मध्यस्थ होता है | डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) और डिपॉजिटरी के बीच का संबंध डिपॉजिटरी एक्ट (depository act) के तहत दोनों के बीच किए गए एक समझौते (agreement) से नियंत्रित होता है। कानूनी अर्थों में, एक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) एक इकाई है जो सेबी अधिनियम (SEBI Act) की धारा 12 की उप धारा 1 (A) के तहत सेबी (SEBI) के साथ पंजीकृत है। इस अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार, एक डीपी (DP) सेबी से पंजीकरण का प्रमाण पत्र प्राप्त करने के बाद ही डिपॉजिटरी से संबंधित सेवाएं दे सकता है। भारत में दो डिपॉजिटरी हैं, जो वर्तमान में कार्यशील हैं - नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (NSDL) और सेंट्रल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (CDSL)।भारत में विभिन्न डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) को इन डिपॉजिटरीज (NSDL/ CDSL) से हर एक से जोड़ा गया। शेयर मार्किट (Market) में ट्रेड किये जाने वाले सभी इक्विटी और ऋण के सभी विवरण इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड के रूप में इन डिपॉजिटरीज में रखे जाते  हैं।


डिपॉजिटरी कैसे काम करते हैं (How do depository work)?
           डिपॉजिटरी अपने ग्राहकों या निवेशकों के साथ अपने एजेंटों के माध्यम से बातचीत या ट्रेडिंग प्रक्रिया में संलग्न होते हैं। इन एजेंट्स को ही डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स (DP) कहा जाता है। किसी भी निवेशक या ग्राहक को डिपॉजिटरी द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं का लाभ उठाने के लिए किसी भी डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) के साथ डीमैट एकाउंट (Demat) खोलना होता है।
           भारत में दो डिपॉजिटरी (Depository) एवं कई डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स (DP) हैं | डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स (DP) के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे दि ये गए कूट का प्रयोग करें |
(कृपया DP के अंग्रेजी नाम के पहले वर्ण पर क्लिक करें)

For more details, please click on the first letter of your DP’s name

A | B | C | D | E | F | G | H | I | J | K | L | M | N | O | P | Q | R | S | T | U | V | W | Y | Z |



No comments:

Post a Comment

We would be happy to hear you :)

Post Top Ad

Responsive Ads Here